Home क्रिकेट कोहली के साथ उठायी U19 WC ट्रॉफी, सचिन की टीम के थे...

कोहली के साथ उठायी U19 WC ट्रॉफी, सचिन की टीम के थे मैच विनर और धोनी से भी खास नाता, इस खिलाड़ी ने कहा क्रिकेट को अलविदा

Saurabh Tiwary: टीम इंडिया के सर्वकालिन महान क्रिकेटर्स सचिन तेंदुलकर(Sachin Tendulkar), महेन्द्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) और विराट कोहली (Virat Kohli) के साथ खास रिश्ता रखने वाले एक भारतीय क्रिकेटर ने सोमवार को अचानक ही अपने प्रोफेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया। ये वो खिलाड़ी है, जिसने किंग कोहली के साथ उठाया अंडर-19 वर्ल्ड कप, मास्टर-ब्लास्टर की टीम के रहे सबसे बड़े मैच विनर और एमएस धोनी  के शुरुआती करियर में उनके जैसे लंबे बालों के कारण होती थी इस दिग्गज से तुलना। ये वो खिलाड़ी है, जिसने सचिन, धोनी और विराट तीनों की कप्तानी में आईपीएल में अपना रंग जमाया है।

Saurabh Tiwary
Saurabh Tiwary

सचिन, धोनी और विराट से खास नाता रखने वाले सौरभ तिवारी का संन्यास

भारत के इन 3 बड़े दिग्गजों के साथ नाता रखने वाले इस खिलाड़ी ने 34 साल की उम्र में क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया। यहां पर बात कर रहे हैं, धोनी के गृहराज्य झारखंड से आने वाले सौरभ तिवारी की… जी हां… सौरभ तिवारी ने सोमवार को सभी तरह के प्रोफेशनल क्रिकेट को बाय-बाय कह दिया है। सौरभ तिवारी ने टीम इंडिया की केप भी पहनी लेकिन यहां पर वो अपने करियर को ज्यादा लंबा नहीं कर सके और केवल 3 वनडे मैच ही खेल सके।

Saurabh Tiwary
Saurabh Tiwary IPL

ये भी पढ़े- IPL 2024: गुजरात टाइटंस को मिला Hardik Pandya का धांसू रिप्लेसमेंट, बल्ले से मचायी ऐसी तबाही कि दुनिया रह गई दंग

महेन्द्र सिंह धोनी के झारखंड के रहने वाले हैं सौरभ तिवारी

झारखंड के रहने वाले सौरभ तिवारी लंबे घने बालों के साथ खेला करते थे, उनका ये लुक कुछ हद तक महेन्द्र सिंह धोनी से मिलता-जुलता था। धोनी अपने करियर की शुरुआत में लंबे बालों के साथ ही खेला करते थे। इसी वजह से सौरभ तिवारी को झारखंड का छोटा धोनी तक कहा जाता था। 2008 में अंडर-19 वर्ल्ड कप में जीत के बाद इस खिलाड़ी को आईपीएल में पहली बार उसी साल मुंबई इंडियंस की टीम से खेलने का मौका मिला, पहले 2 सत्र में उन्हें केवल 7 मैच खेलने का मौका ही मिल सका।

अंडर-19 वर्ल्ड में जीत के बाद आईपीएल में मौका, 2010 में दिखाया जलवा

आईपीएल के पहले दो सीजन में कुछ खास मौका नहीं मिल पाने के बाद उन्हें सचिन तेंदुलकर की कप्तानी वाली इस टीम के लिए 2010 के पूरे सीजन में मौका मिला। इस पूरे सीजन सौरव तिवारी छाए रहे और उन्होंने कमाल का प्रदर्शन करते हुए 16 मैचों में करीब 136 की स्ट्राइक रेट से 419 रन मारे। इसके बाद उन्हें 2010 में ही टीम इंडिया का टिकट मिल गया। तिवारी ने 20 अक्टूबर 2010 को अपना पहला वनडे मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला, वो अपने करियर में केवल 3 वनडे मैच खेल सके, जिसमें उन्होंने 49 रन का ही योगदान दिया। इसके बाद उन्हें कभी मौका नहीं मिल सका।

विराट कोहली के साथ खेला अंडर-19 वर्ल्ड कप, आईपीएल में 2010 के बाद नहीं दिखा कमाल

सौरभ तिवारी को भारत के लिए विराट कोहली की कप्तानी में अंडर-19 वर्ल्ड कप की जीत में खास हिस्सा थे। जहां कोहली के साथ विजेता ट्रॉफी उठायी। आईपीएल में 2010 में कमाल करने के बाद तिवारी का प्रदर्शन का ग्राफ गिरता रहा। इसके बाद वो कभी आरसीबी में खेले, तो कभी दिल्ली कैपिटल्स में खेले, तो कभी नई टीम राइजिंग पुणे सुपरजॉयंट्स में भी खेले। आखिर में 2021 में फिर से मुंबई इंडियंस का हिस्सा बने। लेकिन इसके बाद उन्हें यहां मौका नहीं मिला। आईपीएल में सौरभ तिवारी ने कुल 93 मैच खेले जिसमें उन्होंने 28.73 की एवरेज के साथ 1494 रन बनाए। वो 8 फिफ्टी लगाने में कामयाब रहे।

घरेलू क्रिकेट में ऐसा रहा है सफर

सौरभ तिवारी इन दिनों रणजी ट्रॉफी खेल रहे हैं, जिसमें 16 फरवरी से राजस्थान के खिलाफ झारखंड के लिए वो आखिरी बार खेलने उतरेंगे। पिछले कुछ वक्त से वो चोट से काफी परेशान हैं, इसी वजह से उन्होंने संन्यास की घोषणा कर दी। सौरभ तिवारी ने 115 प्रथम श्रेणी मैच खेले, जिसमें 47.51 के शानदार औसत से 22 शतक और 34 अर्धशतकों के दम पर 8030 रन बनाए। उन्होंने 116 लिस्ट ए मैचों में करीब 47 की औसत से 4050 रन बनाए और 181 टी20 मैच खेले, जहां वो 29 की औसत से 3454 रन बनाने में सफल रहे।