Home क्रिकेट KL Rahul: केएल राहुल के सपोर्ट में उतरा भारत का दिग्गज खिलाड़ी,...

KL Rahul: केएल राहुल के सपोर्ट में उतरा भारत का दिग्गज खिलाड़ी, संजीव गोयनका को समझा दिया बिजनेस करने का तरीका

283

KL Rahul: इंडियन प्रीमियर लीग के के 17वें एडिशन में कुछ दिन पहले एक बहुत ही हैरान करने वाला नजारा देखने को मिला था। जब सनराइजर्स हैदराबाद के हाथों लखनऊ सुपर जायंट्स की हार हुई थी, जिसके बाद लखनऊ सुपर जायंट्स के मालिक संजीव गोयनका ने सरे आम कप्तान केएल राहुल को जमकर सुना दिया। सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें और वीडियोज वायरल हुए जिसमें संजीव गोयनका टीम के कप्तान केएल राहुल पर बुरी तरह से भड़क रहे हैं और कप्तान राहुल बच्चे की तरह संजीव गोयनका की फटकार सुन रहे हैं।

KL Rahul
KL Rahul LSG

केएल राहुल के लिए वीरेन्द्र सहवाग ने संजीव गोयनका को किया बुरी तरह टारगेट

केएल राहुल को अपनी टीम के ही मालिक संजीव गोयनका के द्वारा इस तरह से भड़कने, चीखने, चिल्लाने की तस्वीरें और वीडियो आग की तरह सोशल मीडिया पर फैल गया, जिसके बाद तो फैंस से लेकर पूर्व और मौजूदा क्रिकेटर्स तक अपनी राय दे रहे है, जिसमें लगभग हर कोई संजीव गोयनका को खूब टारगेट कर रहा है। केएल राहुल के लिए मोहम्मद शमी के बाद अब भारत के पूर्व महान बल्लेबाज रहे वीरेन्द्र सहवाग भी सपोर्ट में आए हैं और उन्होंने संजीव गोयनका को बिजनेस करने का तरीका तक सीखा दिया। वीरू ने यहां संजीव गोयनका को जबरदस्त तरीके से सुना दिया।

KL Rahul Sanjiv
KL Rahul Sanjiv

ये भी पढ़े-KL Rahul: केएल राहुल इन 4 क्रिकेटर्स को मानते हैं सबसे बड़ा जेंटलमैन, नाम जानकर रह जाएंगे हैरान

टीम के खराब परफॉरमेंस में नहीं है बिजनेसमैन का घाटा

वीरेन्द्र सहवाग ने क्रिकबज के साथ बात करते हुए कहा कि, ये सब बिजनेसमैन हैं और उन्हें केवल मुनाफे और घाटे की भाषा समझ आती है। मगर यहां कोई घाटा नहीं है, तो उन्हें किस बात की परेशानी है? वो 400 करोड़ का मुनाफा कमा रहे हैं और ये ऐसा बिजनेस है, जहां उन्हें कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। आपको इन बातों पर ध्यान देना होगा क्योंकि परिणाम चाहे कुछ भी हो, उन्हें लाभ मिल रहा है।”

ये एक ऑनर का काम नहीं होता- वीरेन्द्र सहवाग

इसके बाद वीरू ने संजीव गोयनका पर निराशा साधते हुए कहा कि, “एक मालिक का काम यह होना चाहिए कि जब भी वो प्रेस कॉन्फ्रेंस या ड्रेसिंग रूम में प्लेयर्स से मिलें, तब उनका मनोबल बढ़ाने की कोशिश करें। लेकिन जब मालिक आकर पूछे कि यह सब क्या चल रहा है और क्या दिक्कतें आ रही हैं? या फिर वो किसी विशेष खिलाड़ी के ऊपर सवाल उठाने लगें। देखिए खिलाड़ी और कोच टीम को चलते हैं, इसलिए मालिकों के लिए बेहतर होगा कि वो टीम के प्रदर्शन या खिलाड़ियों पर सवाल ना उठाएं।”